Saturday, December 29, 2012

तू मेरा है-{ you are mine}

मेरी पलकों पे  सजा हर ख़्वाब तेरा है,
मेरी बांहों में तेरा, तेरी बांहों में जहान मेरा है।

तुझे तेरी रातों से चुरा में ले जाऊंगा,
वो फूलों से भरा हर रास्ता मेरा है।

तेरे आँसुओं  को मुस्कुराह बदल दिया है मैंने,
पर अब भी बहता वो अश्क मेरा है।

तेरे अकेलेपन में रंगत बिखेरने आया हूँ,
वो तेरी और बढ़ता हर कदम मेरा है।

में दूर नहीं तुझसे ऐ सनम जरा चेहरा उपर उठा,
आसमान पे दिखता वो अक्स मेरा है।

मेरी हंसी, हमसफ़र,हमकदम मेरी धड़कन हे तू,
दी जिसने लाखों दुआये, तू , वो खुद मेरा है।

लगे तुझे जरा सी चोट, तो दर्द मुझे होगा,
वो तेरे नाज़ुक कदमो के नीचे हाथ मेरा है।

तेरी मुस्कराहट है मुझे इस जहां में सबसे प्यारी,
के इसपे मर मिटने को तेयार ये दिल मेरा है।

हर ग़म हर दुःख में तेरा साथी में हूँ,
जिधर ये ग़म अब जाये वो पता मेरा है।

तेरे दिल की धडकनों को बड़े गौर से सुना है मैंने,
हर धड़कन ने जो लिया वो नाम "तरुन " मेरा है।
..
..
..
ये कविता "" तरुण ""भाई ने लिखी है,और हमें भेजी है, उन्ही की तरफ से हम इसे यहाँ पोस्ट कर रहे है।
धन्यवाद्  तरुण भाई जी .

No comments:

Post a Comment